Friday, November 6, 2009

मृत्यु के सन्दर्भ में .... २

मृत्यु के सन्दर्भ में

पल रहा फिर गर्भ में

गर्भ में गन्धर्व मैं

हूँ अभी प्रासंगिक मैं

मैं नही इतिहास

न कोई बर्बर अट्टहास

हो रहा फिर ह्रास

क्यों फिर मेरा

मृत्यु प्रशनबस इतना

क्या होता है जीते जी मरना

क्या

कुछ होता है जीते जी मरना॥

2 comments:

  1. ye kaun si bhasha hai???

    ReplyDelete
  2. @anonymous
    hindi hai... aap hian kaun??

    ReplyDelete